in ,

सड़कों पर खड़ी रेहड़ी संचालकों को समझाकर स्ट्रीट वेंडिंग जोन में भेजा

शहर की सड़कों पर फ्रूट, सब्जी व अन्य सामान बेच रहे रेहड़ी संचालकों को समझाकर निगम कर्मियों ने स्ट्रीट वेंडिंग जोन में भेजा। इस दौरान निगम कर्मियों ने रेहड़ी संचालकों से हाथ जोड़कर अपील की कि उनके लिए नगर निगम द्वारा अलग अलग स्ट्रीट वेंडिंग जोन बनाए हुए हैं। लेकिन फिर भी वे सड़कों पर खड़े होकर फ्रूट, सब्जी व अन्य सामान बेच रहे हैं। सड़कों पर रेहड़ियां खड़ी होने से जाम की स्थिति बनती है। इसलिए वे रेहड़ियां वेंडिंग जोन में खड़ी करके अपना सामान बेचें। ताकि आमजन को शहर की सड़कों से निकलने में परेशानी न हो।
नगर निगम मेयर मदन चौहान व निगमायुक्त आयुष सिन्हा के निर्देशों पर शहर को अतिक्रमण मुक्त बनाने के लिए अभियान चलाया गया है। अभियान के तहत सीएसआई अनिल नैन, हरजीत सिंह व सुरेंद्र चौपड़ा के नेतृत्व में अतिक्रमण हटाओ दस्ते बनाए हुए हैं। जो अपने अपने क्षेत्र में अतिक्रमण हटाने व लोगों को अतिक्रमण न करने के प्रति जागरूक कर रहे है। मंगलवार को सीएसआई अनिल नैन के नेतृत्व में बनी टीम रामकेश, अमर सिंह, राकेश व होमगार्ड के जवानों ने रेलवे रोड व शहर की विभिन्न सड़कों पर खड़े रेहड़ी वालों को वेंडिंग जोन में पहुंचाया और उन्होंने दोबारा सड़कों पर खड़ा होकर अतिक्रमण न करने के प्रति जागरूक किया।
मेयर मदन चौहान ने बताया कि रेहड़ी संचालकों व शहरवासियों की सुविधा के लिए हमने अलग अलग स्ट्रीट वेंडिंग जोन बनाए है। शहर थाना यमुनानगर के सामने फूड जोन बनाया गया है। जहां शहरवासी खाने, पीने व नॉनवेज ले सकते है। कालड़ा मार्केट के सामने, रेलवे स्टेशन चौक के पास, प्यारा चौक, जब्बी वाला गुरुद्वारा के पास फ्रूट रेहड़ी मार्केट बनाई गई है। जहां लोग फल व सब्जी खरीद सकते है। उन्होंने रेहड़ी संचालकों से अपील की है कि वे स्वयं ही स्ट्रीट वेंडिंग जोन में शिफ्ट हो जाए। वहां से उन्हें कोई नहीं हटाएगा। उन्होंने कहा कि अलग जोन बनने से शहर की यातायात व्यवस्था में काफी सुधार आया है। अब सड़कों पर बहुत की कम संख्या में रेहड़ी खड़ी होती है। जिससे जाम की स्थिति नहीं बनती।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

GIPHY App Key not set. Please check settings

Written by HBN Desk

आयुष्मान भारत योजना के अंतर्गत गरीब परिवारों को प्राईवेट अस्पतालों में वार्षिक 5 लाख रुपये तक की नि:शुल्क चिकित्सा सेवाओं का मिल रहा है लाभ

सिविल अस्पताल में विज ने जरूरतमंद लोगों को 5 रूपये में भरपेट भोजन व्यवस्था में बंटाया हाथ